Site icon

More concrete, more heat: Why our cities are hotter than ever

More-concrete-more-heat-Why-our-cities-are-hotter-than

Even as large parts of the country swelter in a brutally hot summer, with prolonged heat waves, a recently published report shows that rising temperatures is not the sole contributing factor to the heat stress being experienced in urban India. According to a report by the Centre for Science and Environment, the extreme discomfort of the summer months in Chennai, Mumbai, Delhi, Bengaluru, Kolkata and Hyderabad over the last two decades is caused by a combination of air temperature, land surface temperature and relative humidity, as well as a rapid increase in built-up areas and concretisation. It poses a grave risk to lives, especially among vulnerable groups like the elderly, babies, pregnant women, those who live in slums and work outdoors

All these factors would need to be taken into consideration for relief measures to be effective. While more than 20 states have worked with the NDMA to create heat action plans (HAP), most remain on paper. They are hampered by a lack of funding, granularity and a sustainable vision for transformation. There is a growing consensus among experts that city-specific management plans, which take into account local factors, are a far more effective response to heat waves. Such plans should prioritise green spaces and water bodies and target all heat generators, including vehicles, industries and concrete surfaces — an example is Ahmedabad’s Cool Roofs programme, which offers an affordable solution for the urban heat island effect. Along with emergency steps to be implemented during a heat event, long-term planning can keep cities from heating up excessively and save lives

This is the third straight year of severe heat waves in India, which have been far longer — over 10 days-long — this time than the usual four to eight days. Thanks to climate change, temperatures have shot up, as has humidity. But, as the CSE report points out, the effect of this — the moisture in the air keeps sweat from evaporating fast enough, making it seem even hotter than it actually is — iscompounded by other factors, including changes in land use and the growing urban sprawl. This has resulted in the “urban heat island effect”: The trapping of heat due to a dense concentration of buildings, paved roads and other surfaces made of materials like concrete, glass and steel, results in higher temperatures in city centres than in the outlying areas. One alarming consequence of this is that summer nights now offer little respite from the searing heat of the day, with cities across climatic zones not cooling down at the rate they once did. This is a serious cause for concern as the heat stress continues to build, increasing the risk of heat-related illnesses and even death.

summary of the article :

1. गर्मी से बढ़ता तनाव: शहरी भारत बढ़ते तापमान, आर्द्रता और तेजी से शहरीकरण के संयोजन के कारण अत्यधिक गर्मी से तनाव का सामना कर रहा है।

2. योगदान देने वाले कारक: हवा का तापमान, भूमि की सतह का तापमान और सापेक्ष आर्द्रता, साथ ही निर्मित क्षेत्रों और कंक्रीटीकरण में वृद्धि, असुविधा में योगदान करती है।

3. कमजोर समूह: गर्मी बुजुर्गों, शिशुओं, गर्भवती महिलाओं, झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वालों और बाहरी कामगारों सहित कमजोर आबादी के लिए महत्वपूर्ण जोखिम पैदा करती है।

4. लंबे समय तक चलने वाली गर्मी की लहरें: भारत लगातार तीसरे साल भीषण गर्मी की लहरों का सामना कर रहा है, जो सामान्य चार से आठ दिनों की तुलना में 10 दिनों से अधिक समय तक चलती है।

5. जलवायु परिवर्तन का प्रभाव: जलवायु परिवर्तन ने तापमान और आर्द्रता बढ़ा दी है, जिससे गर्मी का तनाव बढ़ गया है।

6. शहरी ऊष्मा द्वीप प्रभाव: इमारतों, पक्की सड़कों और कंक्रीट की सतहों वाले घने शहरी क्षेत्र गर्मी को रोकते हैं, जिससे बाहरी क्षेत्रों की तुलना में शहर के केंद्रों में तापमान अधिक होता है।

7. रात के समय की गर्मी: शहर रात में पहले की तरह ठंडे नहीं हो रहे हैं, जिससे समग्र गर्मी का तनाव और गर्मी से संबंधित बीमारियों का खतरा बढ़ रहा है।

8. हीट एक्शन प्लान: हालाँकि 20 से अधिक राज्यों ने NDMA के साथ हीट एक्शन प्लान (HAP) बनाए हैं, लेकिन अधिकांश फंड की कमी और विस्तृत कार्यान्वयन के कारण अप्रभावी हैं।

9. शहर-विशिष्ट योजनाएँ: विशेषज्ञ शहर-विशिष्ट प्रबंधन योजनाओं की वकालत करते हैं जो स्थानीय कारकों पर विचार करती हैं ताकि गर्मी की लहरों का प्रभावी ढंग से जवाब दिया जा सके।

10. हरित स्थान और जल निकाय: योजनाओं में गर्मी को कम करने के लिए हरित स्थानों और जल निकायों के विकास को प्राथमिकता दी जानी चाहिए।

11. हीट जेनरेटर को लक्षित करना: प्रभावी योजनाओं में वाहनों, उद्योगों और कंक्रीट सतहों सहित सभी ताप स्रोतों को संबोधित किया जाना चाहिए।

12. अहमदाबाद का कूल रूफ कार्यक्रम: इस कार्यक्रम को शहरी गर्मी द्वीप प्रभाव को कम करने के लिए एक किफायती समाधान के उदाहरण के रूप में रेखांकित किया गया है।

13. आपातकालीन और दीर्घकालिक योजना: अत्यधिक शहरी गर्मी को रोकने और जीवन की रक्षा के लिए तत्काल आपातकालीन उपाय और दीर्घकालिक योजना आवश्यक है।

14. सतत दृष्टि की आवश्यकता: गर्मी कार्रवाई योजनाओं को प्रभावी बनाने के लिए एक सतत दृष्टि और विस्तृत कार्यान्वयन की आवश्यकता है।

15. जीवन बचाना: व्यापक और स्थानीय रूप से तैयार की गई गर्मी शमन रणनीतियाँ गर्मी के तनाव को कम कर सकती हैं और शहरी क्षेत्रों में जीवन बचा सकती हैं।

Author की टोन :

Author की tone informative है. लेखक ने गर्मी तनाव की समस्या का सामना कर रहे भारत के बारे में जानकारी दी है

Exit mobile version