Bengaluru becomes ‘Garden City’ againAmidst rapid urbanisation and environmental challenges,

the city is embracing green initiatives such as rooftop gardens and vertical farming Bangalore, India, is rapidly developing its infrastructure with a focus on sustainability, innovation and environmentally friendly initiatives.

As the city grows, it faces challenges such as urbanisation and environmental issues. To combat these problems, businesses are promoting initiatives like rooftop gardens and vertical farms. Once known as the Garden City of India, Bangalore is now reclaiming its legacy by promoting sustainable living practices and incorporating green spaces into its urban landscape.Rooftop gardens are becoming increasingly popular in Bangalore, providing various environmental and social benefits.

They help reduce the urban heat island effect, provide natural insulation that reduces energy consumption and improve air quality. Residents and businesses are transforming their rooftops into green spaces, combatting pollution and promoting biodiversity.

Many commercial and residential complexes in the city are now promoting rooftop gardening, turning barren rooftops into lush green havens. This initiative not only contributes to biodiversity but also serves as a recreational space for residents.Vertical farming is another concept that fosters sustainability in Bangalore’s urban spaces. This innovative practice involves growing crops in vertically stacked layers that maximise space utilisation and minimise water consumption. By bringing food production closer to urban centres, vertical farms help reduce carbon emissions and offer several benefits over conventional farming practices, such as higher crop yields, reduced water usage and year-round production.Community gardens have also emerged as a vital initiative to bring communities together and grow their food. These gardens contribute to food security, promote healthy eating habits and strengthen social ties among residents. Additionally, they serve as an educational platform for sustainable agriculture practices and provide opportunities for residents to reconnect with nature.The government has constructed several laws and initiatives to support sustainable initiatives.

The city has accepted green building certifications like LEED and GRIHA to combat environmental issues and ensure eco-friendly development that abides by environmental concerns while effectively meeting the needs of investors. These initiatives improve locals’ quality of life and aid in ecological preservation.

The government has also released a toolkit and manual for the green index that will evaluate, analyse and rank environmental conservation initiatives of various infrastructure projects and programmes.

Summary of the Editorial :

1. स्थिरता पर ध्यान: बेंगलुरु तेजी से बढ़ते शहरीकरण और पर्यावरणीय चुनौतियों के बीच सतत विकास को प्राथमिकता दे रहा है।

2. हरित पहल: शहर छत पर उद्यान और ऊर्ध्वाधर खेती जैसी हरित पहल को अपना रहा है।

3. ऐतिहासिक विरासत: कभी भारत के गार्डन सिटी के रूप में जाना जाने वाला बेंगलुरु, स्थायी जीवन पद्धतियों के माध्यम से अपनी विरासत को पुनः प्राप्त कर रहा है।

4. छत पर उद्यान: ये उद्यान लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं, शहरी गर्मी द्वीप प्रभाव को कम करने और वायु गुणवत्ता में सुधार जैसे पर्यावरणीय लाभ प्रदान करते हैं।

5. पर्यावरणीय लाभ: छत पर उद्यान प्राकृतिक इन्सुलेशन प्रदान करते हैं, ऊर्जा की खपत को कम करते हैं और जैव विविधता को बढ़ावा देते हैं।

6. सामाजिक लाभ: वे मनोरंजक स्थानों के रूप में भी काम करते हैं और निवासियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करते हैं।

7. ऊर्ध्वाधर खेती: यह अभिनव अभ्यास स्थान को अधिकतम करता है, पानी की खपत को कम करता है, और खाद्य उत्पादन को शहरी केंद्रों के करीब लाता है।

8. कृषि दक्षता: वर्टिकल फ़ार्म पारंपरिक खेती की तुलना में अधिक फ़सल पैदावार, कम पानी का उपयोग और साल भर उत्पादन प्रदान करते हैं।

9. सामुदायिक उद्यान: ये स्थान निवासियों के बीच खाद्य सुरक्षा, स्वस्थ खाने की आदतों और सामाजिक संबंधों को बढ़ावा देते हैं।

10. शैक्षिक प्लेटफ़ॉर्म: सामुदायिक उद्यान टिकाऊ कृषि प्रथाओं के लिए शैक्षिक प्लेटफ़ॉर्म के रूप में काम करते हैं और निवासियों को प्रकृति से फिर से जोड़ते हैं।

11. सरकारी सहायता: सरकार ने टिकाऊ प्रथाओं का समर्थन करने के लिए कानून और पहल लागू की हैं, जिसमें LEED और GRIHA जैसे ग्रीन बिल्डिंग सर्टिफ़िकेशन शामिल हैं।

12. जीवन की गुणवत्ता: इन पहलों का उद्देश्य पारिस्थितिकी संरक्षण में सहायता करते हुए स्थानीय लोगों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करना है।

13. ग्रीन इंडेक्स: पर्यावरण संरक्षण पहलों का मूल्यांकन और रैंकिंग करने के लिए ग्रीन इंडेक्स के लिए एक टूलकिट और मैनुअल जारी किया गया है।

14. सहयोगात्मक प्रयास: हरित पहलों के सफल कार्यान्वयन के लिए सरकारी एजेंसियों, वाणिज्यिक क्षेत्र और जनता के बीच सहयोग की आवश्यकता होती है।

15. भविष्य का दृष्टिकोण: स्थिरता को अपनाकर, बेंगलुरु एक हरित, अधिक रहने योग्य भविष्य का मार्ग प्रशस्त कर रहा है.

Leave a Comment